धर्म - मंदिर हिन्दू धर्म से जुड़ी हर जानकारी- राघव राजपूत


ज्योतिष न्यूज़ : दोस्तों सावन महिना शुरू हो गया है और इस महीने में भोलेनाथ की कृपा किन राशियों पर होगी उन राशियों के लोग अपार सफलता पाएंगे । आज हम 3 ऐसी राशियों के बारे में बतायेंगे जिनकी किस्मत ठीक आज से 3 दिन बाद बदल सकती है इन 3 राशिवालों को अचानक से कोई बड़ा फायदा हो सकता है तो चलिए जानते हैं इन तीन राशियों के बारे में।

तुला, कन्या और कुम्भ राशी.


तुला कन्या और कुम्भ राशी वाले जातकों के लिए आने वाले 3 दिन बहुत ही शुभ साबित होने वाले हैं इन जातकों की अचानक से किस्मत खुल जाएगी और कई नए रस्ते निकलेंगे इन जातकों के धन लाभ के योग बन रहे हैं और साथी सारी परेशानियाँ दूर होने के भी गुण बन रहे हैं ।
रह जायेंगे हैरान
भारत के गुजरात के यह मन्दिर अहमदाबाद से 40 किलोमीटर दूर है यहां पर एक ऐसा मंदिर स्थित है, जहां मुस्लिम महिला की पूजा की जाती है। ये एकमात्र हिन्दू मंदिर है, जहां मुस्लिम महिला की पूजा की जाती है। यह मंदिर हिंदू-मुस्लिम एकता का प्रतीक माना जाता है। यहां रहने वाले लोगों का मानना है कि 250 साल पहले 'डोला' नाम की एक मुस्लिम महिला ने उपद्रवियों....Continue


NFENews : भारत बहुत ही विशाल देश है यहाँ लाखों के हिसाब से मंदिर देखने को मिलते है और हर एक मंदिर की अलग मान्यता है, अलग परंपरा है. हर मंदिर की अलग ही कहानी है ।
आज हम बात कर रहे है. एक ऐसे मंदिर की जिसमे घर से भागे प्रेमी जोड़ों को आश्रय दिया जाता है, हिमाचल परदेश को देव भूमि भी कहा जाता है । हिमाचल परदेश जितना अपनी खूबसूरती के लिए मशहूर है, उतना ही अपनी परम्पराओं के लिए है | आज हम बात कर रहे हैं कुलु के एक गाँव शांघड़ की जहाँ पर शंगचूल महादेव नाम का मंदिर जो इसलिए परसिध है की वहां पर घर से भागे हुए प्रेमी जोड़ों को आश्रय दिया जाता है इतना ही नहीं जहाँ पर समाज से ठुकराए हुए लोगो को भी आश्रय दिया जाता है | इस मंदिर की सीमा में आने पर कोई भी प्रेमी युगल को कुछ नहीं कह सकता यहाँ तक की उनके परिजन भी तब तक उनको कुछ नहीं कह सकते जब तक वो मंदिर की सीमा में है |
मंदिर 100 भीगा जमीन में बना हुआ है उसे ही मंदिर की सीमा मन जाता है | जय ही कोई इस सीमा में पहुँचता है उसे देवता की शरण में आया हुआ मान लिया जाता है |
इस गाँव में पुलिस के आने पर भी प्रतिबंद है और इसके साथ शराब सिगरेट चमड़े आदि का पर्योग भी गाँव में वर्जित मन जाता है | यहाँ पर किसी किसम का हथियार लाना भी वर्जित है, यहाँ तक की इस गाँव में लड़ाई जगडा यां ऊँची आवाज में भी बात नहीं कर सकते यहाँ पर भागकर आये प्रेमी युगल की समस्या का जब तक निपटारा नहीं होता तब तक मंदिर के पंडित ही उनकी देखबाल की जिम्मेदारी उठाते है | ऐसा माना जाता है की महाभारत के काल में जब पांडवों को अग्यात्वास काटना था तो उन्होंने इस मंदिर में ही शरण ली थी जब कौरव उनका पीछा करते हुए यहाँ पर पहुंचे तब शंगचूल महादेव ने उन्हें रोका और कहा की ये मेरा शेत्र है और जो कोई मेरी शरण में आएगा मई उसकी रक्षा करूँगा ये बात सुन कौरव डर कर यहाँ से चले गए तब से लेकर आज तक अगर कोई समाज से ठुकराया हुआ शख्स यहाँ पर पहुँचता है तो यहाँ के रहने वाले लोग उनका आदर करते है और उन्हें देवता की शरण में आया हुआ मानकर उनकी रक्षा करते है |

0 comments:

Post a Comment

OFFER

Blog Archive